कंप्यूटर का ज्ञान

Computer Introduction In Hindi: कंप्यूटर एक इलेक्ट्रानिक युक्ति है, जो प्रत्येक क्षेत्र में उपयोग की जाती है. हम जहां कहीं भी हो कंप्यूटर का उपयोग हर जगह हो रहा है. अब हम कंप्यूटर के बिना दुनिया की कल्पना नही कर सकते है, इन दिनों कंप्यूटरों का उपयोग बहुत बड़े रूप से इंजीनियरों और वैज्ञानिकों द्वारा किया जाता है तथा दुनियाभर में लाखों लोग इसका इस्तमोल करते है. इसी लिए इस युग की सूचना प्रोद्योगिकी आईटी का युग कहा जाता है

कम्प्यूटर एक तीव गति से कार्य करने वाली इलेक्ट्रॉनिक मशीन है, जो इसमें प्रविष्ट (input) सूचनाओं एवं आँकड़ो को इलेक्ट्रॉनिक रूप में स्वीकार करके पूर्व संग्रहित निर्देशों के अनुसार उसकी प्रक्रिया कर वांछित परिणाम (output) प्रदान करती है। अतः कम्प्यूटर मानव द्वारा निर्मित्त एक अत्यंत उपयोगी व मूलत: एक प्रोग्राम किया जा सकने वाला स्वचालित इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जो बिजली के साथ-साथ बैटरी से भी चल सकता है। यह तीव्र गति से कार्य करती है। वर्तमान समय में कम्प्यूटर्स ने हमारे दैनिक जीवन को काफी प्रभावित किया है। चाहे घर हो या ऑफिस, उद्योग, मनोरंजन द्योग, हॉस्पिटल, रिटेल स्टोर, रिसर्च एवं डिजायन संस्थान आदि प्रत्येक क्षेत्र में हम कम्प्यूटर की उपस्थिति एवं अनिवार्यता का अनुभव करते हैं। इसे हिन्दी में संगणक भी कहते हैं।

‘कम्यूटर’ शब्द की उत्पत्ति ‘Compute’ (कम्प्यूट) शब्द से हुई है जिसका अर्थ गणना करना होता है। इसीलिए कम्यूटर को आमतौर पर एक गणना करने वाली मशीन माना जाता है जो तीव्रगति से अर्थमैटिक रूप से ऑपरेशन्स को संचालित कर सकती है। वास्तव में कम्प्यूटर एक ऐसी डिवाइस है जो किसी भी प्रकार के डाटा के ऊपर कार्य करती है। साथ ही एक कम्प्यूटर डाटा को केवल स्टोर करके प्रोसेस ही नहीं करता है बल्कि यह डाटा को रिट्रीव (retrieve) भी करता है अर्थात् जब भी जैसी आवश्यकता हो, तब डाटा को इसकी मेमोरी (या storage) से बाहर निकालकर प्रयोग किया जा सकता है। इस प्रकार कम्प्यूटर को एक डाटा प्रोसेसर के रूप में परिभाषित किया जा सकता है क्योंकि यह डाटा को स्टोर कर सकता है, उनकी प्रोसेसिंग कर सकता है तथा आवश्यकता पड़ने पर स्टोर किये हुए पूर्व डाटा को वापस बाहर निकाल सकता है। अत: हमें उन्हें अलग से याद रखने की आवश्यकता नहीं रहती। इस प्रकार कम्प्यूटर का उपयोग बहुत सारी सूचनाओं व आँकड़ों को प्रोसेस (Process) करने व इकट्ठा करने के लिए होता है।

पूर्व में कम्प्यूटर का उपयोग केवल वैज्ञानिकों व Engineers द्वारा जटिल गणनाओं को हल करने में किया जाता था। यह प्रक्रिया बहुत खर्चीली भी थी। वर्तमान में इनका आकार व कीमतें बहुत कम हो गई हैं। अत: घरों में पर्सनल कम्प्यूटर (PC) व लेपटॉप्स का प्रयोग अत्यधिक होने लगा है। नई तकनीकी से कदम मिलाकर चलने के लिए प्रत्येक व्यक्ति कम्प्यूटर के बारे में सीखना चाहता है। प्रत्येक क्षेत्र यथा बैंक, रेलवे, अस्पताल, शापिंग काम्पलेक्स, विद्यालय, महाविद्यालय और यहाँ तक कि घर पर भी कम्प्यूटर आजकल एक आवश्यकता बन गई है। अत: कम्प्यूटर को केवल गणना करने वाला उपकरण न मानकर इन्फॉर्मेशन प्रोसेसिंग मशीन कहना अधिक उचित है।

परिभाषा: आसान शब्दो में


कम्प्यूटर एक ऐसी इलेक्ट्रानिक युक्ति है जो इनपुट किये गये डाटा व निर्देशों के समूह (Instructions) को पढ़कर, इनका तीव्र गति व परिशुद्धता से प्रक्रियांकन (Processing) कर वांछित निर्गत (परिणाम-output) प्रदान करती है। कम्प्यूटर कई प्रकार के उपकरणों को जोड़कर (assemble कर) बनाई गई मशीन है। इन उपकरणों के नाम हैं- की-बोर्ड (Key-Board- टाइप राइटर की तरह), स्क्रीन या मॉनीटर (विजुवल डिस्प्ले यूनिट के रूप में), केन्द्रीय संसाधन इकाई (CPU), मैग्रेटिक रिकार्डर/ डिस्क व प्रिन्टर आदि।

Leave a Reply

Your email address will not be published.